CTET Hindi Mock test Paper 006

142

CTET Hindi Mock test Paper 006

04-01-2022 CTET Hindi Question Paper (Morning Shift)

1 / 23

जीन पियाजे के सिद्धांत के अनुसार , विद्यार्थियों को व्याकर्णिक  संरचनाओं को समझने के लिए , भाषा शिक्षक को क्या करना चाहिए ?

2 / 23

कक्षा में चर्चा के दौरान कक्षा 5 की एक विद्यार्थी ' भ्रष्टाचार के कारणों ' पर अपना दृष्टिकोण प्रस्तुत करती है इस दौरान न तो वह दूसरों के विचारों से सहमति प्रकट कर रही है और न ही वह दूसरे के नजरिए से विषय - वस्तु को देखने की कोशिश कर रही है ।  पियाजे के अनुसार वह किस प्रकार के भाषण में शामिल है ? 

3 / 23

पियाजे के अनुसार भाषा का विकास _________  से __________ तक होता है ।

4 / 23

ब्यगोत्स्की के अनुसार जो बच्चे ________ का व्यापक उपयोग करते हैं , वे अन्य बच्चों की तुलना में जटिल कार्यों को अधिक प्रभावी ढंग से सीखते हैं ।

5 / 23

स्टीफेन क्रेशन के अनुसार , कौन - सी अचेतन प्रक्रिया है ?

6 / 23

भाषा की पाठ्यपुस्तक का शैक्षिक पक्ष क्या है ?

7 / 23

राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा 2005 के आधार पर पठन कौशल से क्या तात्पर्य है ?

8 / 23

कुल भैतिक प्रतिक्रिया (TRP) में किसकी केंद्रीय भूमिका होती है  ?

9 / 23

समग्र भाषा उपागम में भाषा अधिगम के लिए एक उपकरण के रूप में क्या प्रयोग किया जाता है ?

10 / 23

ट्रान्सलैंग्यूजिंग ( एक भाषा से दूसरी भाषा मे जाना ) के सम्बंध में इन कथनों (A) और (B) पर विचार करें ।

(A) ट्रान्सलैंग्यूजिंग बहुभाषावाद का एक लचीला स्वरूप है ।

(B) ट्रान्सलैंग्यूजिंग सम्प्रेषण क्षमता के संवर्द्धन के लिए जानी गई भाषाओं के बीच एक भाषा से दूसरी  में व्यवहार करना है ।

11 / 23

एक विद्यार्थी जिसके घर की भाषा और विद्यालय की भाषा अलग - अलग है , आप एक संसाधन के रूप में उसकी कैसे मदद कर सकते हैं ?

12 / 23

पियाजे के अनुसार भाषा अर्जन की प्रक्रिया है  -

13 / 23

आप भाषा शिक्षण के रूप में पाठ्य सामग्री के किस स्वरूप को अपनाना चाहेंगे ?

14 / 23

निम्नलिखित में से कौन सा लेखन कौशल का उच्चतम स्तर है ?

15 / 23

निम्नलिखित पद्यांश  को पढ़कर पूछे गए प्रश्न के लिए सबसे उपयुक्त विकल्प का चयन कीजिए ।

विध्नों को गले लगाते हैं ।
कार्टून में राह बनाते हैं । ।। 
मैं कौन विध्न ऐसा जग में
टिक सके आदमी के मग में , खम ठोंक ठेलता है जब नर 
पर्वत के जाते पाँव उखड़ , मानव जब जोर लगाता है ।
पत्थर पानी बन जाता है । ।
गुण बड़े एक से एक प्रखर 
है छिपे मानवों के भीतर ,  मेहंदी में जैसे लाली हो
वर्तिका बीच उजियाली हो , बत्ती जो नहीं जलाता है ।
रोशनी नहीं वह पाता है । ।

 

' पाँव उखड़ना ' मुहावरे का सही अर्थ है - 

16 / 23

' रोशनी ' की विलोम शब्द है -

17 / 23

निम्नलिखित पद्यांश  को पढ़कर पूछे गए प्रश्न के लिए सबसे उपयुक्त विकल्प का चयन कीजिए ।

विध्नों को गले लगाते हैं ।
कार्टून में राह बनाते हैं । ।। 
मैं कौन विध्न ऐसा जग में
टिक सके आदमी के मग में , खम ठोंक ठेलता है जब नर 
पर्वत के जाते पाँव उखड़ , मानव जब जोर लगाता है ।
पत्थर पानी बन जाता है । ।
गुण बड़े एक से एक प्रखर 
है छिपे मानवों के भीतर ,  मेहंदी में जैसे लाली हो
वर्तिका बीच उजियाली हो , बत्ती जो नहीं जलाता है ।
रोशनी नहीं वह पाता है । ।

 

' वर्तिका '  का अर्थ है - 

18 / 23

निम्नलिखित पद्यांश  को पढ़कर पूछे गए प्रश्न के लिए सबसे उपयुक्त विकल्प का चयन कीजिए ।

विध्नों को गले लगाते हैं ।
कार्टून में राह बनाते हैं । ।। 
मैं कौन विध्न ऐसा जग में
टिक सके आदमी के मग में , खम ठोंक ठेलता है जब नर 
पर्वत के जाते पाँव उखड़ , मानव जब जोर लगाता है ।
पत्थर पानी बन जाता है । ।
गुण बड़े एक से एक प्रखर 
है छिपे मानवों के भीतर ,  मेहंदी में जैसे लाली हो
वर्तिका बीच उजियाली हो , बत्ती जो नहीं जलाता है ।
रोशनी नहीं वह पाता है । ।

 ' विध्नों को गले लगाते है , कांटो में राह बनाते है । ' पंक्ति का भाव है - 

 

19 / 23

निम्नलिखित पद्यांश  को पढ़कर पूछे गए प्रश्न के लिए सबसे उपयुक्त विकल्प का चयन कीजिए ।

विध्नों को गले लगाते हैं ।
कार्टून में राह बनाते हैं । ।। 
मैं कौन विध्न ऐसा जग में
टिक सके आदमी के मग में , खम ठोंक ठेलता है जब नर 
पर्वत के जाते पाँव उखड़ , मानव जब जोर लगाता है ।
पत्थर पानी बन जाता है । ।
गुण बड़े एक से एक प्रखर 
है छिपे मानवों के भीतर ,  मेहंदी में जैसे लाली हो
वर्तिका बीच उजियाली हो , बत्ती जो नहीं जलाता है ।
रोशनी नहीं वह पाता है । ।

कवि के अनुसार मनुष्यों में गुण किस प्रकार छिपे रहते हैं ?  

 

20 / 23

निम्नलिखित पद्यांश  को पढ़कर पूछे गए प्रश्न के लिए सबसे उपयुक्त विकल्प का चयन कीजिए ।

विध्नों को गले लगाते हैं ।
कार्टून में राह बनाते हैं । ।। 
मैं कौन विध्न ऐसा जग में
टिक सके आदमी के मग में , खम ठोंक ठेलता है जब नर 
पर्वत के जाते पाँव उखड़ , मानव जब जोर लगाता है ।
पत्थर पानी बन जाता है । ।
गुण बड़े एक से एक प्रखर 
है छिपे मानवों के भीतर ,  मेहंदी में जैसे लाली हो
वर्तिका बीच उजियाली हो , बत्ती जो नहीं जलाता है ।
रोशनी नहीं वह पाता है । ।

पद्यांश के अनुसार ' पत्थर पानी ' बन सकता है ।

 

21 / 23

' संस्कृति ' का संधि विच्छेद क्या है ?

22 / 23

प्रत्यय की दृष्टि से भिन्न शब्द की पहचान अंकित कीजिए ।

23 / 23

' इधर की उधर लगाने ' का अर्थ है -

Your score is

The average score is 54%

0%

CTET Previous Mock test Paper

CTET Hindi Mock test Paper 005Click here
Science Mock Test Paper 002Click here
CTET CDP Mock test PaperClick here
English Mock test PaperClick here
EVS Mock Test PaperClick here
Math Mock TestClick here

Join WhatsApp ChannelCkick here
Join Telegram GroupClick here
Join WhatsApp GroupClick here
Join Our WhatsApp ChannelJoin Now
Join Our Telegram GroupJoin Now

Leave a Comment